ASK A QUESTION

    Pointer in Hindi

in Hindi - Pointer



हर एक Variable का एक Memory Address होता है और Memory Address देखने के लिए Programmer को variable से पहले '&'(address operator) लगाना पड़ता है |

for eg.
int a ;
printf("Address of a : %d", &a);
Output:
Address of a : 6356748    // 6356748 is address of variable

इसी memory address की मदद से Variable की value को access किया जाता है , इसी को 'Pointers' कहते है |

Pointer किसी दूसरे variable का address hold करके रखता है |

हर एक variable का एक address होता है | जब variable declare होता है तभी उसका एक memory location पर वो store होता है |

For Example

 int a = 10;

Variable_or_Location_namea
Variable_value10Location
Memory Address6356748

Syntax for Pointer Declaration

data_type *pointer_name;

Example for Pointer Declaration

int *ptr1; // integer pointer variable
char *ptr2; // character pointer variable
float *ptr3; // float pointer variable
double *ptr4; // double pointer variable

किसी integer data type variable का address hold करना है तो pointer भी उसी data type का होगा जिस data type का variable हो, मतलब variable int है तो pointer भी int ही होगा, अगर variable char हो तो pointer variable भी char ही होगा | Pointer किसी की value hold करके नहीं रखता, बल्कि सिर्फ उसका address hold करके रखता है और उस address से ही pointer के साथ variable के value को print किया जाता है |


Full Example for Pointer

Source Code :
#include <stdio.h>

int main(){

int a = 10;
int *ptr;  // Integer Pointer Variable
ptr = &a;  //address of a stored in ptr

    printf("Value of a is: %d\n", a);
    printf("Address of a is: %u", ptr);

return 0;
}

Output :
Value of a is: 10
Address of a is: 6356744

Note : Pointer का address साधारणतः Hexadecimal Numbers होते है, पर कुछ compiler अपना address integer में print करते है | Variable का address print कराने के लिए '%x' या '%u' इन Format Specifiers का इस्तेमाल करते है |




Pointers के बारे में और जानते है |

Pointers के दो Methods है |

  1. Referencing Operator ( & )
  2. Dereferencing Operator ( * )

1. Referencing Operator

Referencing मतलब किसी दूसरे variable का address hold करके रखना होता है |

हर variable का address hold करने के लिए जिसका address hold करना है और जिस Pointer variable में hold करना है, तो उन दोनों का data type same होना चाहिए |

for eg.
int a = 10;
int *ptr; 
ptr = &a;  //address of a stored in ptr

2. Dereferencing Operator

Dereferencing में asterisk ( * ) का इस्तेमाल करते पर pointer में इसे Dereferencing Operator भी कहते है |

Dereferencing में pointer में store किये हुए value को access किया जाता है |

int a = 10;
int *ptr; 
ptr = &a;
int b = *ptr; // ptr means dereferencing
printf("Value of a : %d", b);
Output :
Value of a : 10